ईपीएफओ बोर्ड ने पीएफ पर घटाई ब्याज दर, 6 करोड़ कर्मचारियों को लगा झटका

BUSINESS

नई दिल्ली: कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के करीब छह करोड़ अंशधारकों के लिए बूरी खबर है. कर्मचारी भविष्य निधि संगठन अपने सदस्यों को उनकी भविष्य निधि (पीएफ) पर 8.65 प्रतिशत के बजाय अब 8.50 प्रतिशत ही ब्याज देगा. ब्याज दरों में 0.15 प्रतिशत कटौती की गई है. ये जानकारी केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने दी है.

Coronavirus Updates: हेल्थ मिनिस्टर हर्षवर्धन राज्यसभा में बोले- अब तक 29 मामलों की पुष्टि, WHO के संपर्क में सरकार
ईपीएफओ निवेश पर कम रिटर्न मिलने के कारण से पहले से संभावना जताई जा रही थी कि 5 मार्च को सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज की बैठक में प्रोविडेंट फंड (पीएफ) जमा पर ब्याज दर घटाने का फैसला लिया जाएगा. आपको बता दें कि लॉन्ग टर्म एफडी, बॉन्ड और सरकारी प्रतिभूतियों से ईपीएफओ को मिलने वाले रिटर्न में सालभर में 50-80 बेसिस पॉइंट्स की कमी आई है.

गत वर्ष अधिक थी ब्याज दर:
गत मार्च 2019 में समाप्त वित्त वर्ष के लिए ईपीएफओ ने 8.65 प्रतिशत ब्याज दर का ऐलान किया था. वित्त वर्ष 2017-18 में ईपीएफओ ने अपने अंशधारकों को 8.55 प्रतिशत की दर से ब्याज दिया था. इस वर्ष ईपीएफओ ने 5 वर्ष में सबसे कम 8.55 प्रतिशत की दर से ब्याज उपलब्‍ध कराया था.

पहली बार T20 विश्व कप के फाइनल में पहुंची भारतीय महिलाएं, रचा इतिहास
वहीं 2016-17 में ईपीएफ पर ब्याज दर 8.65 प्रतिशत पर था. जबकि 2015-16 में 8.80 प्रतिशत की दर से ब्‍याज मिलता था. इसी तरह, 2013-14 और 2014-15 में ईपीएफ पर 8.75 प्रतिशत का ब्याज दिया गया था. वहीं 2012-13 में ईपीएफ पर ब्याज दर 8.50 फीसदी रही थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *